बक्सर में दाह संस्कार से लौटते समय आरजेडी प्रखंड अध्यक्ष की गोली मारकर हत्या
बक्सर में दाह संस्कार से लौटते समय आरजेडी प्रखंड अध्यक्ष की गोली मारकर हत्या

पटना: बक्सर जिले के सिमरी थाना क्षेत्र अंतर्गत नियाजीपुर बांध के पास अज्ञात हथियारबंद अपराधियों ने प्रखंड स्तरीय आरजेडी नेता दीपक यादव (25) की उस समय गोली मारकर हत्या कर दी जब वह शुक्रवार की रात एक एसयूवी में कुछ दोस्तों के साथ दाह संस्कार से लौट रहे थे।

पुलिस ने बताया कि यादव बक्सर में राजद के छात्र विंग के डुमरांव प्रखंड अध्यक्ष थे।

पुलिस ने यह भी बताया कि वह बक्सर के डुमरांव थाना क्षेत्र अंतर्गत चाणक्यपुरी कॉलोनी स्थित मुख्य बाजार इलाके में रहता था।

बक्सर एसपी नीरज कुमार सिंह ने शनिवार को बताया कि मारे गए यादव के परिजनों ने उनकी हत्या के मामले में पांच अज्ञात हमलावरों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है।

“परिवार के सदस्यों ने शुरू में आरोप लगाया था कि उनके साथ एक दुर्घटना हुई है । वे उसे सदर अस्पताल ले गए जहां से उसे वाराणसी रेफर कर दिया गया। वाराणसी ले जाते समय रास्ते में उनकी मौत हो गई जिसके बाद परिवार के सदस्य शव को वापस ले आए और आरोप लगाया कि उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई है ।

एसपी ने बताया कि जांच जारी है और हत्या में शामिल लोगों का पता लगाने के लिए कई ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। एसपी सिंह ने बताया कि परिजनों ने पुलिस के सामने बातें साफ नहीं की हैं।

“यादव के सिर में एक गोली लगी थी । घटना शाम करीब 7 बजे हुई । रात करीब 10 बजे उसकी मौत के बाद परिवार के सदस्य मिडवे से बक्सर लौटे। उन्होंने कहा, कुछ ही घंटों के भीतर पोस्टमार्टम किया गया ।

वहीं डुमरांव एसडीपीओ कृष्ण कुमार सिंह ने बताया कि यादव अपने करीबी दोस्त की दादी के दाह संस्कार में शामिल होने गए थे और वहां से लौट रहे थे।

उन्होंने बताया, “मृतक महिला जिसका दाह संस्कार हुआ था सिमरी प्रखंड की साहियार पंचायत की मुखिया अर्चना देवी की सास थी।

“हैरानी की बात है कि जो लोग उस समय यादव के साथ थे, उनमें से कोई भी अभी तक पुलिस के सामने नहीं आया है । उन्होंने कहा, वे ट्रेसलेस हैं ।

एसडीपीओ ने कहा कि कई तथ्यों को अभी भी छिपाकर रखा गया है जैसे कि मारे गए युवक के साथ कई अन्य व्यक्ति यात्रा करने पर भी कितने अपराधी मौके पर पहुंचे थे।

उन्होंने कहा कि पुलिस को एक बाइक मिली है जो मौके पर पहुंचने पर एसयूवी से टकरा गई थी । एसडीपीओ ने बताया कि पता चलने के बाद परिवार के सदस्यों और उसके दोस्तों को कई संदेह साफ किए जाने हैं।

Leave a Reply